भारतीय पेपर मनी का दिलचस्प इतिहास बताता है यह म्यूजिमय, यहां है कमाल का कलेक्शन

अनुषा मिश्रा 15-09-2021 05:33 PM News
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया दो कमाल के म्यूजियम चलाती है। पहला- मुंबई में (द मॉनेटरी म्यूजियम) और दूसरा - कोलकाता में (आरबीआई म्यूजियम), जो पैसे के इतिहास, मॉनेटरी ट्रांजेक्शन आदि का काम करते हैं। लेकिन अगर आप विशेष रूप से भारतीय रुपये के नोटों के बारे में जानना चाहते हैं तो आपको बंगलुरु के रिजवान रजाक म्यूजियम ऑफ इंडियन पेपर मनी का रुख करना चाहिए। 

2020 में शुरू हुए इस म्यूजियम में भारतीय पेपर मनी और संबंधित सामग्री का बेहतरीन संग्रह है। यह रिजवान रजाक के पर्सनल कलेक्शन से बनाया गया म्यूजियम है, जो प्रेस्टीज ग्रुप के सह-संस्थापक और प्रेस्टीज एस्टेट्स प्रोजेक्ट्स के प्रबंध निदेशक हैं। 2012 में, रजाक ने 'द रिवाइज्ड स्टैंडर्ड रेफरेंस गाइड टू इंडियन पेपर मनी' नामक एक पुस्तक का सह-लेखन किया, जिसे तब से 'बाइबल फॉर इंडियन पेपर मनी' कहा जाता है। 2017 में, उन्होंने भारत में एक रुपये के नोट के जारी होने की 100 वीं वर्षगांठ के अवसर पर एक दूसरी पुस्तक, 'वन रुपया - वन हंड्रेड इयर्स 1917-2017' लिखी। भारतीय पेपर मनी का उनका संग्रह आज दुनिया में सबसे व्यापक माना जाता है। 50 वर्षों की मेहनत से उन्होंने ये कलेक्शन बनाया है, जिसमें उनकी मेहनत और लगन साफ दिखती है। 

आपके पसंद की अन्य पोस्ट

आईआरसीटीसी ने 30 अप्रैल तक अपनी तीन ट्रेनों की बुकिंग रोकी

आईआरसीटीसी ने अपनी तीन प्राइवेट ट्रेनों का संचालन आगामी 30 अप्रैल तक निलंबित रखने का फैसला किया है। इन तीन प्राइवेट ट्रेनों में नई दिल्ली-लखनऊ के बीच चलने वाली तेजस एक्सप्रेस, मुंबई-अहमदाबाद तेजस और वाराणसी-इंदौर के बीच चलने वाली महाकाल एक्सप्रेस शामिल हैं।

कोरोना से लड़खड़ा रहा अफ्रीका का वाइल्डलाइफ टूरिज्म

कोरोना वायरस फैलने से अफ्रीका में जानवरों पर मंडरा रहा अवैध शिकार का खतरा

लेटेस्ट पोस्ट

श्राद्ध पक्ष में इन जगहों का है विशेष महत्व, पिंडदान के लिए जाते हैं लोग

देश में ऐसी कई जगहें हैं जो पूर्वजों जहां जाकर लोग अपने पूर्वजों का पिंडदान करते

कम समय और कम पैसों में घूमिए दिल्ली के पास की ये जगहें

हम आपके लिए ले आए हैं कुछ ऐसी जगहों की लिस्ट जहां आप बहुत कम खर्च में और कम समय में घूम सकते हैं।

भारतीय पेपर मनी का दिलचस्प इतिहास बताता है यह म्यूजिमय, यहां है कमाल का कलेक्शन

50 वर्षों की मेहनत से उन्होंने ये कलेक्शन बनाया है, जिसमें उनकी मेहनत और लगन साफ दिखती है।

यूं ही नहीं ये जगह जन्नत कहलाती है

वादियों में टूरिज्म इंडस्ट्री पटरी पर लौट रही है और आपको बुला रही है।

पॉपुलर पोस्ट

घूमने के बारे में सोचिए, जी भरकर ख्वाब बुनिए...

कई सारी रिसर्च भी ये दावा करती हैं कि घूमने की प्लानिंग आपके दिमाग के लिए हैपिनेस बूस्टर का काम करती है।

एक चाय की चुस्की.....एक कहकहा

आप खुद को टी लवर मानते हैं तो जरूरी है कि इन सभी अलग-अलग किस्म की चायों के स्वाद का मजा जरूर लें।

लॉकडाउन में हो रहे हैं बोर तो करें ऑनलाइन इन म्यूजियम्स की सैर

कोरोना महामारी के बाद घूमने फिरने की आजादी छिन गई है लेकिन आप चाहें तो घर पर बैठकर भी इन म्यूजियम्स की सैर कर सकते हैं।

घर बैठे ट्रैवल करो और देखो अपना देश

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश नाम से शुरू की ऑनलाइन सीरीज। देश के विभिन्न राज्यों के बारे में अब घर बैठे जान सकेंगे।