सैर दुनिया की

भारत से इन देशों तक आप कर सकते हैं रोड ट्रिप

रोड ट्रिप्स एक अलग ही तरह का सुकून देने वाली होती हैंक्योंकि यह आपको यात्रा का पूरा अनुभव देती हैं। आप जहां चाहें रुक सकते हैं, वहां के खाने का, लोगों से बातें करने का आनंद ले सकते हैं। नए-नए गांव-शहर देखते हुए अपनी मंज़िल तक पहुंच सकते हैं। आने देश में तो लोग अक्सर रोड ट्रिप करते हैं लेकिन जब विदेश जाने की बारी आती है तब पहला ख्याल हवाई यात्रा का ही आता है। आए भी क्यों न ये आसान है और इसमें समय भी बचता है। लेकिन अगर आप घुमन्तू किस्म के हैं और पूरी दुनिया को करीब से देखने की ख्वाहिश रखते हैं तो एक बार विदेश यात्रा भी सड़क के रास्ते कर ही डालिए। मज़ा न आए तो पैसे वापस। अब आप सोच रहे होंगे कि भारत से किसी विदेशी देश की सड़क यात्रा कैसे करें? ठीक है, अगर आपको लगता है कि यह संभव नहीं है, तो हम आपके लिए उन विदेशी देशों की सूची लेकर आए हैं जहां भारतीय सड़क मार्ग से यात्रा कर सकते हैं। 

जापान के इस मंदिर में होती है शराब और अंगूरों की पूजा

दुनियाभर में कई धर्मों को मानने वाले लीग रहते हैं। उनकी अपनी-अपनी धार्मिक आस्थाएं हैं, और अपने-अपने धार्मिक स्थल हैं। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि जापान में एक मंदिर अंगूर और शराब को समर्पित है। हां, आपने सही पढ़ा। दुनिया में एक ऐसा मंदिर है जहां लोग अंगूर और शराब की पूजा करते हैं। जापान के खूबसूरत यामानाशी क्षेत्र में स्थित, डाइज़ेन-जी मंदिर टोक्यो से लगभग 100 किमी दूर है। यह क्षेत्र जापान में सबसे ज़्यादा शराब बनाने वाली जगहों में से एक है। यहां मंदिर में शराब ही चढ़ाई भी जाति है। 

भूटान घूमने का बना रहे हैं प्लान? रॉयल हाइलैंड फेस्टिवल कर रहा है इंतज़ार

अगर आप हाल फिलहाल भूटान जाने की तैयारी में हैं तो पहले यह ख़बर पढ़ लीजिए। भूटान 23 अक्टूबर, 2022 से लाया, गासा में रॉयल हाईलैंड फेस्टिवल की मेजबानी करने के लिए पूरी तरह तैयार है। यह जानकारी हाल ही में टूरिज्म काउंसिल ऑफ भूटान (TCB) ने दी। रॉयल हाईलैंड फेस्टिवल की शुरुआत महामहिम द किंग ऑफ भूटान ने 2016 में देश अर्थव्यवस्था और हाईलैंड संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए की थी।

दुनिया के सबसे खूबसूरत 5 गांव

हम जब कहीं घूमने की प्लानिंग कर रहे होते हैं तो मन में ज़्यादातर उन्हीं जगहों पर जाने का ख्याल आता है जो मशहूर हों। जहां के बारे में हमने खूब सुना हो, पढा हो। और यकीनन इसमें किसी गांव में घूमने का ख्याल तो हमें कभी नहीं आता। हां, वो बात अलग है कि मेघालय के मौसिनराम को एशिया के सबसे साफ गाओं का खिताब मिल चुका है, इसलिए अब टूरिस्ट्स वहां जाने लगे हैं और 'देश का आखिरी गांव' वाले बोर्ड ने माणा जैसे कुछ गाँव में टूरिज़्म को बढ़ावा दिया है। लेकिन इनसे इतर दुनिया में ऐसे कई गांव हैं जो हमारी कल्पना से भी ज़्यादा खूबसूरत हैं। हम आपको ले चलते हैं ऐसे ही 5 गांवों की सैर पर। सरप्राइज करने वाली बात यह है कि इनमें से एक गांव भारत का भी है और हां, वो मेघालय का नहीं है। 

दुनिया के सबसे पुराने 5 शहर जहां आज भी लोग रहते हैं

दुनिया भर में ऐसे कई पुराने शहर हैं जो कई तरह की मुश्किलों का सामना करने के बाद भी आज तक अपने वैभव को कायम रखने में कामयाब हुए हैं, और अब इतिहास के पन्ने में दर्ज होने से कहीं ज्यादा आगे निकल चुके हैं। इन शहरों को देखकर ये पता चलता है कि कैसे साल दर साल, अरसा दर अरसा मानव सभ्यता का विकास हुआ और साथ में इन शहरों का भी। इन शहरों के पास कमाल की वास्तुकला थी और ये शब्दों से परे सुंदर थे। कई शहर ऐसे हैं जो समय की मार को नहीं झेल पाए और वक़्त के साथ कहीं गुम हो गए लेकिन कुछ आज भी ज्यों के त्यों सीना ताने खड़े हैं। अगर आप इसमें रुचि रखते हैं, तो हम आपको बताते हैं दुनिया के सबसे पुराने और लगातार बसे हुए 5 शहरों के बारे में।

बहुत खतरनाक हैं दुनिया के ये 5 टूरिस्ट स्पॉस्ट्स

दुनिया में ऐसी कई जगहें हैं जो अपनी सुंदरता के लिए जानी जाती हैं और दुनिया भर से हजारों पर्यटकों को आकर्षित करती हैं। पहाड़ की चोटियों से लेकर घने जंगल तक तक, समंदर से लेकर घाटियों तक ये जगहें कभी अपनी खूबसूरती तो कभी किसी और खूबी से टूरिस्ट्स की पसंद बन जाती हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि दुनिया में कुछ ऐसी जगहें भी हैं जो लोगों को इसलिए पसंद आती हैं क्योंकि वे किसी न किसी वजह से खतरनाक हैं। अगर आप भी इनके बारे में जानने के लिए उत्सुक हैं तो परेशान न हों। हम आपको बता रहे हैं 5 ऐसी जगहों के बारे में जो काफी खतरनाक हैं फिर भी लोग वहां जाना पसंद करते हैं। 

अब आसानी से घूम सकेंगे वियतनाम, भारतीयों के लिए नई सेवा शुरू

अगर आप विदेश यात्रा करना चाहते हैं तो ये आपके लिए खुशखबरी है! भारतीय यात्री अब वियतनाम में अपनी पसंदीदा जगहों पर आसानी से घूम सकते हैं। वियतजेट की नई दिल्ली/मुंबई से हनोई/हो ची मिन्ह सिटी तक हर सप्ताह 4 उड़ाने हैं। सितंबर 2022 से, वियतजेट ग्यारह अतिरिक्त मार्गों पर उड़ानें शुरू करेगा।, जिससे दोनों देशों के बीच कुल 17 उड़ानें हो जाएंगी। नई दिल्ली/मुंबई-फू क्वोक सेवाएं जल्द ही 9 सितंबर से हर सप्ताह 3-4 उड़ानों के साथ शुरू होगी। इसके अलावा, अहमदाबाद/हैदराबाद/बेंगलुरू को हनोई/हो ची मिन्ह सिटी/दा नांग से जोड़ने वाले 9 नए मार्ग भी सितंबर से चार साप्ताहिक उड़ानों के साथ शुरू होंगे। दिवाली के समय दो और नए रूट मुंबई/नई दिल्ली - दा नांग मिड अक्टूबर से चालू हो जाएंगे।यह भी पढ़ें : दो देशों में है नागालैंड का ये गांव, लोगों के पास है दोहरी नागरिकतावियतजेट के साथ, आप अब वियतनाम में अपनी पसंदीदा जगहों के लिए पांच घंटे की सीधी उड़ानें ले सकते हैं। नई सीधी उड़ानें आपके के लिए न केवल वियतनाम बल्कि बाली, सिंगापुर, कुआलालंपुर, बैंकॉक, फुकेत, ​​चियांग माई, सियोल, बुसान, टोक्यो, ओसाका, फुकुओका, नागोया, और ताइपे जैसे दक्षिण पूर्व - पूर्वोत्तर एशिया जैसे बाकी देशों से जुड़ना आसान और अधिक किफायती बना देंगी। इसके अलावा वियतजेट कई तरह के खाने के साथ विशेष इन-फ्लाइट फ़ूड भी दे रहा है। और वह भी वेजिटेरियन व नॉन वेजेटेरियन दोनों। वियतनाम ने कोविड -19 से जुड़े प्रतिबन्धों को भी हटा दिया है। विशेष रूप से, फु क्वोक में आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को अच्छी चीजों का अनुभव करने के लिए 30-दिन की वीजा छूट दी जा रही है। 

फूलों से लेकर बर्फ तक, जानिए दुनिया के 5 अनूठे रेगिस्तानों के बारे में

रेगिस्तान के बारे में जब भी बात होती है तो डोर-डोर तक फैले रेत की ही याद आती है। बस रेत ही रेत, उसमें और कुछ नहीं। कहीं-कहीं कुछ कैक्टस या रेत में होने वाले पौधे उग आते हैं लेकिन वे भी जीवन से कोसों दूर लगते हैं। न कहीं पानी नज़र आता है और न ही फूल। रेगिस्तान को गर्म, शुष्क और तपा देने वाला ही माना जाता है लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कि दुनिया में कुछ ऐसे भी रेगिस्तान हैं जहां फूल उगते हैं, पानी का लगून है, बर्फ गिरती है। यकीन नहीं आ रहा न ? कोई बात नहीं। हम बताते हैं आपको इन रेगिस्तानों के बारे में…

ज्वालामुखी के ऊपर बसे हैं ये खूबसूरत शहर

आज से लगभग 14.5 करोड़ साल पहले जुरासिक युग के अंत के पांच प्रमुख कारणों में से एक ज्वालामुखियों में हुए विस्फोट को भी माना जाता है। ज्वालामुखियों में विस्फोट कई बार परमाणु बम जितने शक्तिशाली और विनाशकारी भी होते हैं। क्या आपको लगता है ऐसे विनाशकारी खतरों के बीच कोई शहर बस सकता है? अगर आपका जवाब न है, तो आपको जानकार आश्चर्य होगा कि दुनिया के कई ऐसे शहर हैं जो ज्वालामुखियों के नज़दीक आबाद हैं। यहां की रौनक तो देखते ही बनती है।आखिर लोग ज्वालामुखी जैसी खतरनाक जगहों पर क्यों बसे हुए हैं?  "हम अक्सर ज्वालामुखियों को एक खलनायक के रूप में देखते हैं, पर उनको देखने का ये सही नजरिया नहीं है।" ये शब्द हैं अमेरिका के भूवैज्ञानिक सर्वे की रिसर्चर सारा मैकब्राइड के। सिर्फ इसलिए कि एक ज्वालामुखी मौजूद है, ये जरुरी नहीं कि ये विनाशकारी ही हो। यहां तक कि बहुत से लोग सिर्फ अपने अस्तित्व के लिए ज्वालामुखियों पर निर्भर हैं। ज्वालामुखी के भूतापीय ऊर्जा से आस-पास के समुदायों अपने तकनीकी सिस्टम को आसानी से ऑपरेट कर पाते हैं। माना जाता है कि सक्रिय ज्वालामुखियों के पास की मिट्टी अक्सर खनिज से भरपूर होती है जो खेती के लिए फायदेमंद होती है। आइए आपको हम कुदरत के इसी खजाने की सैर पर ले चलते हैं। 

वनवास के समय इन जगहों में रहे थे श्री राम

भगवान श्री राम ने सीता जी और लक्ष्मण जी सहित अपने जीवन के 14 साल वनवास में गुजार दिए। अयोध्या से जब तीनों निकले तो उन्हें नहीं पता कि कहां जाना है, कहां रहना है और क्या करना है। उनके मन में उस वक्त यह विचार था कि उन्हें अपने पिता के वचन को किसी भी हाल में पूरा करना है और जीवन के आने वाले 14 साल वन में बिताने के बाद ही वापस अयोध्या लौट कर आना है। भले ही घर से निकलते वक्त उन्हें नहीं पता था कि उन्हें कहां जाना है, लेकिन अपने इन 14 वर्षों के काल खंड में वे जहां भी गए, जहां भी रुके, सभी जगहें पवित्र और अविस्मरणीय बन गईं। कहते हैं कि अपने वनवास के दौरान श्री राम लगभग 200 जगहों पर गए और रुके। हम आपको बताएंगे उन कुछ प्रमुख जगहों के बारे में जहां वनवास के दौरान प्रभु श्री राम, माता सीता और लक्ष्मण जी गए थे…श्रृंगवेरपुर वाल्मीकि रामायण के अनुसार, अपने वनवास के लिए अयोध्या से निकलने के बाद राम जी सबसे पहले अयोध्या से 20 किलोमीटर दूर तमसा नदी के तट पर पहुंचे थे। इसके बाद नदी पार करके वे प्रयागराज से 20-22 किलोमीटर दूर निषादराज गुह के राज्य श्रृंगवेरपुर पहुंचे। यहीं गंगा के तट पर उन्होंने केवट से गंगा पार करने को कहा था। रामायण काल में सिंगरौर को ही श्रृंगवेरपुर कहा जाता था। प्रयागराज से उत्तर-पश्चिम की ओर लगभग 35 किलोमीटर दूर यह जगह है। कहते हैं कि जब श्री राम, सीता जी और लक्ष्मण जी यहां घाट पर पहुंचे थे तब वहां नाव वालों ने उन्हें नदी पार कराने से मना कर दिया था। इसके बाद स्वयं निषादराज गुह वहां आए और उन्होंने श्रीराम से कहा कि अगर वे उन्हें अपने पैर धोने का अवसर देंगे तो वह उन्हें नदी पार करा देंगे। श्रीराम ने उनका निवेदन मान लिया और निषादराज से वनवास की वापसी में उनके घर आने का वादा करके वह तीनों यहां से आगे चले गए। इस घटना से जोड़ने के लिए इस स्थान का नाम 'रामचुरा' रखा गया है। इस जगह पर एक छोटा सा मंदिर भी है। हालांकि इस मंदिर का कोई ऐतिहासिक या सांस्कृतिक महत्व नहीं है, लेकिन यह जगह अब पर्यटकों को भा रही है।कुरई श्रृंगवेरपुर की नदी के दूसरी छोर पर कुरई गांव है। मान्यताओं के अनुसार, श्रृंगवेरपुर से नदी पार करने के बाद राम जी इसके दूसरे छोर पर कुरई में नाव से उतरे थे और आगे के सफर की ओर बढ़े थे। इस गांव में एक छोटा-सा मन्दिर भी है, जो स्थानीय श्रुति के अनुसार उसी जगह पर है जहां गंगा को पार करने के बाद राम, लक्ष्मण और सीता जी ने कुछ देर विश्राम किया था। कुरई में नाव से उतरने के बाद श्रीराम प्रयागराज पहुंचे और वहां से यमुना को पार कर उन्होंने अपना अगला पड़ाव चित्रकूट को बनाया। चित्रकूटराजा दशरथ की मृत्यु के बाद जब भरत अपनी सेना लेकर भगवान राम से मिलने जिस जगह पहुंचते हैं, वह चित्रकूट थी। यहीं से वह श्रीराम से उनकी चरण पादुकाएं मांगते हैं और उन्हें ही सिंहासन पर रखकर राज्य चलाने की प्रतिज्ञा लेते हैं। मान्यताओं के अनुसार, चित्रकूट में कामदगिरि भव्य धार्मिक स्थल है जहां भगवान राम रहा करते थे। इस स्थान पर भरत मिलाप मंदिर भी है। तुलसीदास ने भी अपनी रचना में चित्रकूट का जिक्र किया है। उन्होंने लिखा है - चित्रकूट के घाट पर भई संतन की भीड़तुलसीदास चंदन घिसत, तिलक देत रघुबीर

इंडोनेशिया देगा 5 साल का डिजिटल वीजा, स्टेकेशन करने वालों का होगा फायदा

कोरोना के आने के बाद से कई कंपनियां वर्क फ्रॉम होम को वरीयता दे रही हैं। अभी तक लोग वेकेशन में ही कहीं घूमने जाते थे, लेकिन अब एक नया टर्म स्टेकेशन भी चल रहा है। यानि जिन लोगों को वर्क फ्रॉम होम मिला है, वे अब किसी एक टूरिस्ट डेस्टिनेशन पर जाकर महीनों रुक रहे हैं और इसे नाम दे रहे हैं स्टेकेशन। कई देशों के यात्रा और पर्यटन विभाग भी यात्रियों को रिमोट-वर्क-फ्रॉम-होम यानी स्टेकेशन देकर अपने यहां आने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। इन्हीं में अब इंडोनेशिया का भी नाम जुड़ गया है जो लोगों को पांच साल के वीजा के साथ डिजिटल वर्क की सुविधा दे रहा है।इंडोनेशिया अब घर से काम करने वाले लोगों के लिए एक नया वीजा कार्यक्रम शुरू कर रहा है। जिससे आप बाली में लंबे समय तक रह सकते हैं और घूमने के साथ-साथ काम का भी मजा ले सकते हैं। ये देश जल्द ही पांच साल के लिए डिजिटल वीजा शुरू करने जा रहा है। यहां सरकार ने क्वारंटीन रूल तो हटा ही दिया है, इसके लिए यात्रा से जुड़े जो प्रतिबन्ध थे, वे भी हटा लिए गए हैं। अब जब कई दिग्गज कंपनियां वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दे ही रही हैं तो इंडोनेशिया का ये नया डिजिटल वीजा प्रोग्राम स्टेकेशन करने वालों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। इस नए वीजा प्रोग्राम पर इंडोनेशियाई पर्यटन मंत्री सैंडियागा ऊनो का कहना है कि खेल आयोजन, पांच साल का वीजा कार्यक्रम और इकोलॉजिकल टूरिज्म घर से काम करने वाले लोगों के लिए शुरू किया जा रहा है। इनसे लगभग 3.6 मिलियन (लगभग 36 लाख) अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को यहां वापस लाने में मदद मिलेगी। "इससे इंडोनेशियाई लोगों के लिए 10 लाख (10 लाख) से अधिक नौकरियां शुरू करने में मदद मिलनी चाहिए,"। सरकार ने कहा इंडोनेशिया को छोड़कर किसी अन्य देश से अगर आप कमा रहे हैं, तो आपको यहां किसी भी तरह के टैक्स के भुगतान से छूट दी जाएगी। ये कदम लोगों को काफी आकर्षित करेगा।

समंदर के ये किनारे हैं बहुत खूबसूरत

अगर आपको समंदर की उठती-गिरती लहरें पसंद हैं। इसके किनाराें पर समय बिताना अच्छा लगता है तो ये स्टोरी आपके लिए है। हम आपके लिए ढूंढ कर लाए हैं दुनिया भर के समंदरों में से इसके सबसे सुंदर किनारे। 

विएना : संगीत और संस्कृति का ठिकाना

रिपब्लिक ऑफ ऑस्ट्रिया की राजधानी और यूरोप के सबसे सुंदर शहरों में से एक है वियना। यहां की इमारतों का आर्किटेक्चर, कमाल का ओपेरा संगीत और गलियों में बने रेस्तरां व कैफे एकदम दिल लुभाने वाले हैं। अपने इतिहास को आज भी खुद में जिंदा किए इस शहर में आपको बीते वक्त की झलक हर जगह दिखाई देगी। दानुबे नदी के किनारे बसा वियना सदियों से पूर्वी और पश्चिमी यूरोप का प्रवेश द्वार रहा है। आज यह देश का सबसे मजबूत आर्थिक और सांस्कृतिक ठिकाना है।

ये है दुनिया का पहला गोल्ड प्लेटेड होटल, देखिए शानदार तस्वीरें

हाल-फिलहाल तो कोरोना के चलते विदेश यात्रा करना सुरक्षित नहीं है लेकिन आने वाले समय में जब सब ठीक होगा तब धीरे-धीरे एक बार फिर लोग दुनिया देखने के अपने शौक को पूरा करने के लिए निकल पड़ेंगे। अगर आप भी कोरोना के बाद वाली अपनी बकेट लिस्ट में घूमने वाली कुछ जगहों के नाम शामिल कर रहे हैं तो इस होटल को भी उसमें शामिल कर लीजिए। 

लॉकडाउन में हो रहे हैं बोर तो करें ऑनलाइन इन म्यूजियम्स की सैर

कोरोना वायरस के बाद लॉकडाउन के चलते सभी पर्यटक स्थलों को बंद कर दिया गया था। अब जब पर्यटक स्थल खुलेंगे तो भी लोगों को विशेष ध्यान रखना होगा। लॉकडाउन के समय जब आप अपने घरों से ज्यादा घूमने फिरने नहीं जा सकते और बोर हो रहे हैं तो क्यों न घर में बैठकर कुछ ज्ञान बढ़ाया जाए। इस समय आप चाहें तो अपनी बोरियत को दूर करने और घुमक्कड़ी मन को शांत करने के लिए कुछ खास संग्रहालयों की वर्चुअल सैर कर सकते हैं। इससे आपका मनोरंजन भी होगा और जानकारी भी बढ़ेगी।आइए आपको लेकर चलते हैं कुछ ऐसे ही खास संग्रहालयों की ऑनलाइन सैर कराने-

घर बैठे देखें दुनिया की शानदार स्ट्रीट आर्ट

शहरों के रंग सिर्फ किताबों (Books) में ही नहीं मिलते बल्कि वहां की गलियों और दीवारों और स्ट्रीट्स पर भी मिलते हैं। फिर चाहे वो बर्लिन की स्ट्रीट आर्ट (Street Art) हो या फिर कुंभ के दौरान प्रयागराज की गलियों में की गई कलाकारी हो। यह आर्ट महज चित्र नहीं हैं बल्कि उस शहर की संस्कृति और वहां के मिजाज के बारे में बताते हैं। घूमने के शौकीन यह बात अच्छी तरह से जानते हैं। यही वजह है कि बड़ी संख्या में लोग घूमने के लिए उन जगहों का चुनाव करते हैं, जहां स्ट्रीट आर्ट (Street Art) का मजा लिया जा सके। तो इस लॉकडाउन (Lockdown) के समय अगर आप वहां नहीं जा सकते तो हम आपको बता रहे हैं कि कैसे आप दुनियाभर की शानदार स्ट्रीट आर्ट्स का घर बैठे मजा ले सकते हैं।

World Book Day/ विश्व पुस्तक दिवस पर जानें मानचित्र और ऐटलस का सफर

किताबें, सैर कराती हैं दुनिया की। फूलों की, पत्तियों की, नदियों की, झरनों की, पहाड़ की, आसमान की, ज्ञान की, विज्ञान की, बदूकों की, तोपों की, बम और रॉकेटों की भी। अद्भुत, अनोखा, अनकहा और रोमांचक अहसासों से हमारे अंदर  निर्माण कराती हैं एक नए संसार का। पर क्या आपने सोचा है कि पहले दुनिया की सैर कैसे होती थी। वो नदी, झरने, पर्वत और रेगिस्तान के बारे में कौन बताता था। आज से लगभग 500 साल पहले जब गूगल (Google) नहीं था, सैटेलाइट नहीं थे और ऐटलस की किताब नहीं थी तो कैसे पता चलता था कि फलां देश समुद्र किनारे बसा है या फिर रेगिस्तान पर। आज तो बिना भटके हम फर्राटा भरते और कदम गिनते हुए अपनी मंजिल तक पहुंच जाते हैं लेकिन पहले कैसे पता चलता था कि कितने महाद्वीप हैं, कितने समुद्र हैं, लंदन कहां है, पेरिस किस चिड़िया का नाम है, अमेरिका कहां है, चीन कहां और रशिया कितना विशाल है। इन विभिन्न जगहों को खोजने के दौरान कितना भटकना पड़ता था? आज विश्व पुस्तक दिवस (World Book Day) पर हम आपको बताएंगे विश्व के पहले मानचित्र (Map) और किताब की शक्ल लेते ऐटलस के बारे में।

विदेश नहीं गए तो क्या हुआ, ये जगहें कर देंगी कमी पूरी

कई बार हॉलीवुड फिल्मों में खूबसूरत लोकेशन्स देखकर हमारा मन उस जगह घूमने जाने को करने लगता है, लेकिन हमारा बजट सारे अरमानों पर फेर देता है, ऐसी परिस्थिति में मायूस होने की कोई जरूरत नहीं है। हमारे देश में भी कई ऐसे राज्य और शहर हैं जिनकी इमारतों और जगहों में विदेशी आर्किटेक्चर की पूरी झलक दिखती है, सबसे खास बात यह है कि यहां जाने पर आपकी जेब का बोझ भी नहीं बढ़ेगा। विदेश जाकर घूमने से पहले क्यों न अपने देश की इन खूबसूरत जगहों को एक्सप्लोर कर लिया जाए। यहां कोई शहर इटैलियन स्टाइल को अपनाए है तो किसी ने हूबहू फ्रेंच कॉलोनियां बसा ली हैं। आप एक बार अगर यहां पहुंच गए तो यकीनन विदेश न घूम पाने का मलाल जरूर कम हो जाएगा। तो फिर कर लीजिए तैयारी हमारे साथ एक ऐसे सफर की जो आपको अपने ही देश में विदेश की यात्रा का अनुभव कराएगा।

अनोखे और खूबसूरत ब्रिजेज को देखकर आप भी हो जाएंगे हैरान

हम जब घूमने का प्लान बनाते हैं तो वहां कौन-कौन सी जगह एक्सप्लोर कर सकते हैं, ज्यादा फेमस, ज्यादा खूबसूरत या फिर कोई ऐसी जगह जो हैरान करने वाली हो, जिसे देखकर आप अपने दांतों तले उंगली दबा लें और सोचने पर मजबूर हो जाएं कि आखिर ये बना कैसे होगा। दुनिया में कई ऐसे देश हैं जहां ऐसे अजीबो-गरीब पुल हैं जो न सिर्फ बने ही हैरान करने वाले अंदाज में हैं बल्कि बहुत ही खूबसूरत भी हैं। ग्रासहॉपर के इस अंक में हम आपको बताने जा रहे हैं दुनिया के कुछ ऐसे ही हैरतअंगेज पुलों के बारे में। कोई ब्रिज फ्लैट्स के बीच से होकर गुजर रहा है तो कोई जंगलों में पेड़ों को जोड़ रहा है। कुछ तो ऐसे भी हैं जिन्हें देखकर ऐसा लगता है मानो डराने के लिए ही बनाए गए हों। 

गायब होने की कगार पर हैं ये खूबसूरती के ये खजाने

घूमने के शौकीन नई-नई जगहों की तलाश करते रहते हैं। कई घुमक्कड़ों ने नई-नई जगहों की तलाश की है, लेकिन नई जगहों की तलाश के साथ ये जानना भी जरूरी है कि कई पुरानी जगहें ऐसी हैं जो अब गायब होने के कगार पर हैं। आपको शायद इनका जानकर यकीन न हो, लेकिन माना ऐसा ही जा रहा है। इससे पहले कि ये घूमने के ये खूबसूरत से ठिकाने गायब हो जाएं, एक बार आप भी यहां घूम आएं।

हॉन्गकॉन्ग में है खूबसूरती का खजाना

हॉन्ग कॉन्ग में धार्मिक लोगों के लिए मंदिर हैं, तो शॉपिंग के शौकीनों के लिए शानदार बाजार, पार्टी गोअर्स के लिए बेहतरीन नाइट लाइफ जीने के ठिकाने, खाने के दीवानों के लिए कमाल का खाना यहां सब कुछ है। चाहे कला गांवों में हस्तशिल्प, कलाकृतियों और अन्य चीजों को खरीदें, ‘डिंग थिंग’ ट्राम की सवारी का मजा लें या अपने बच्चों को डिज्नीलैंड में शानदार समय बिताते और मस्ती करते देखें। कपल हैं तो कैंडल लाइट डिनर के साथ समंदर के किनारे कुछ सुकून के पल बिताएं, या साथी की बाहों में बाहें डालकर घूमें।  यहां हर किसी के लिए कुछ न कुछ खास है। हॉन्ग कॉन्ग में घूमना लोगों के लिए एक कभी न भूलने वाला एक्सपीरियंस हो सकता है। ये शहर हर साल लाखों पर्यटकों को अपने यहां बुलाकर इस तरह के आकर्षण से बांध लेता है कि जब लोग यहां से जाएं तो दोबारा आने की इच्छा साथ ले जाएं। भारतीयों के लिए यहां जाना आसान इसलिए भी है क्योंकि उन्हें हॉन्ग कॉन्ग जाने के लिए वीजा की जरूरत नहीं पड़ती। भारतीयों को यहां वीजा ऑन अराइवल की सुविधा मिलती है, बस आपके पास पासपोर्ट होना चाहिए। 

हॉन्ग कॉन्ग : यहां सबके लिए कुछ खास है

आसमान को छूती इमारतें, भीड़-भाड़ वाली सड़कें, चारों तरफ बिखरी रोशनी, मजेदार खाने के साथ ही ऐसा बहुत कुछ है जो हॉन्ग कॉन्ग को घूमने के लिए लोगों की पसंदीदा जगहों में शामिल करता है। आप चाहे कला प्रेमी हों या इतिहास प्रेमी, संस्कृति प्रेमी हों या प्रकृति प्रेमी, हर स्वाद, मूड और इच्छा को अपील करने के लिए यहां कुछ न कुछ है। हॉन्ग कॉन्ग के टूरिस्ट डेस्टिनेशंस में आपको यहां की संस्कृति और इतिहास दोनों की झलक मिलेगी। 

लेटेस्ट पोस्ट

इस मौसम में घूमने के लिए बेस्ट हैं ये 8 जगहें

कुछ ठंडी सी हवा वाला ये महीना पूरे देश में खुशनुमा होता है।

भारत से इन देशों तक आप कर सकते हैं रोड ट्रिप

हम आपके लिए उन विदेशी देशों की सूची लेकर आए हैं जहां भारतीय सड़क मार्ग से यात्रा कर सकते हैं।

70 वर्षों बाद टूरिस्ट्स के लिए कश्मीर में होगा कुछ खास

घाटी के अधिकांश हिस्से सर्दियों के दौरान बंद रहते हैं, जिससे यहां घूमना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

इस बार कुछ खास होगा हार्नबिल फेस्टिवल, घूम सकते हैं नागालैंड की ये जगहें

पिछले दो साल से कोविड के चलते इस फेस्टिवल में रौनक कुछ कम थी

पॉपुलर पोस्ट

घूमने के बारे में सोचिए, जी भरकर ख्वाब बुनिए...

कई सारी रिसर्च भी ये दावा करती हैं कि घूमने की प्लानिंग आपके दिमाग के लिए हैपिनेस बूस्टर का काम करती है।

एक चाय की चुस्की.....एक कहकहा

आप खुद को टी लवर मानते हैं तो जरूरी है कि इन सभी अलग-अलग किस्म की चायों के स्वाद का मजा जरूर लें।

घर बैठे ट्रैवल करो और देखो अपना देश

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश नाम से शुरू की ऑनलाइन सीरीज। देश के विभिन्न राज्यों के बारे में अब घर बैठे जान सकेंगे।

लॉकडाउन में हो रहे हैं बोर तो करें ऑनलाइन इन म्यूजियम्स की सैर

कोरोना महामारी के बाद घूमने फिरने की आजादी छिन गई है लेकिन आप चाहें तो घर पर बैठकर भी इन म्यूजियम्स की सैर कर सकते हैं।