भूटान घूमने का बना रहे हैं प्लान? रॉयल हाइलैंड फेस्टिवल कर रहा है इंतज़ार

अनुषा मिश्रा 18-10-2022 04:53 PM News
अगर आप हाल फिलहाल भूटान जाने की तैयारी में हैं तो पहले यह ख़बर पढ़ लीजिए। भूटान 23 अक्टूबर, 2022 से लाया, गासा में रॉयल हाईलैंड फेस्टिवल की मेजबानी करने के लिए पूरी तरह तैयार है। यह जानकारी हाल ही में टूरिज्म काउंसिल ऑफ भूटान (TCB) ने दी। रॉयल हाईलैंड फेस्टिवल की शुरुआत महामहिम द किंग ऑफ भूटान ने 2016 में देश अर्थव्यवस्था और हाईलैंड संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए की थी।

क्या है खासियत?

grasshopper yatra Image

यह उत्सव गासा ज़ोंगखग की संस्कृति और सुंदरता का को बेहद खूबसूरती से दिखाता है। अपनी प्रकृति, इतिहास और इसकी सदियों पुरानी परंपरा और संस्कृति के माध्यम से गासा ज़ोंगखग के बारे में बताता है यह त्योहार। 


इसका उल्लेख करते हुए, गासा के ज़ोंगडा (गवर्नर) के कार्यवाहक तेनज़िन चोपेल ने कहा कि यह 'छिपे हुए' भूटान को देखने, बहुत सारे भूटानी लोगों से मिलने और भूटान की सबसे सुंदर जगहों में से एक को देखने का मौका है। उन्होंने कहा कि आसपास की अद्भुत चोटियों के सुंदर बैकड्रॉप वाला गांव इसे उत्सव के लिए एक बेहतरीन जगह बनाता है। 


23 अक्टूबर और 24 अक्टूबर, 2022 दो दिनों के इस उत्सव का मुख्य आकर्षण परेड, खेल, प्रतियोगिताएं होंगी जिनमें घोड़े, याक और मास्टिफ कुत्तों सहित हाइलैंडर जानवर शामिल होंगे। ये जानवर महंगे कपड़े, घंटियां पहने होंगे और देखने लायक होंगे। इसके अलावा, लेयप्स द्वारा कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम भी किए जाएंगे। जिनमें पारंपरिक नृत्य, गीत और कविता पाठ शामिल हैं। लेयप्स, लाया में रहने वाले स्वदेशी लोगों को कहते हैं।


त्योहार में औषधीय जड़ी-बूटियों, पौधों, स्थानीय उपज व अन्य स्थानीय चीजों को बेचने के लिए स्टॉल भी लगेंगे। इस त्यौहार में पूरे भूटान से समुदायों का जमावड़ा भी होता है, जिसमें कई जनजातियां अपने जानवरों को दिखाने और दौड़ में प्रतिस्पर्धा करने के लिए ऊंचे हिमालय से नीचे आती हैं। 

grasshopper yatra Image

इसमें लाया रन प्रतियोगिता का आयोजन भी होगा। इस दौड़ में कोई भी हिस्सा ले सकता है। चाहें पुरुसब हो या महिला उन्हें हिमालय के पार तक 25 किलोमीटर दौड़ना होता है। इसके अलावा एक और प्रतियोगिता होती है जिसमें जोड़े खेलते हैं। इसमें यहां के जोड़े पूरे रास्ते में भारी रेत के थैले खींचते हैं।


लाया का मौसम

3800 मीटर की ऊंचाई पर है और जहां यह उत्सव होता है वह जगह 4000 मीटर पर है। अक्टूबर में यह काफी ठंडा हो सकता है। यहां इस महीने में दिन का तापमान 1-12 C के बीच होता है, और रात का तापमान 0 C से नीचे चला जाता है। हल्की बूंदा बांदी और बर्फबारी की भी उम्मीद की जा सकती है। दोपहर में हवा चलती है। गसा से लाया के लिए चलना खतरनाक हो सकता है, खासकर अगर बारिश हो जाए तो। अगर आप इस फेस्टिवल में शामिल होने जा रहे हैं तो गर्म कपड़ों के साथ सर्दी और बारिश में पहनने वाले जूते भी साथ ले जाएं।


कैसे पहुंचा जाये?

यहां पहुंचने के लिए, आप तोंगचुद्रा तक ड्राइव कर सकते हैं, फिर लाया के लिए 6 घंटे का ट्रेक ले सकते हैं, जो भूटान में सबसे सुंदर पर्वतारोहणों में से एक है। या आप चाहें तो एक हेलीकाप्टर की सवारी, या कुली घोड़ों का विकल्प चुन सकते हैं जो पगडंडी पर पैदल यात्रियों की मदद के लिए उपलब्ध हैं।

आपके पसंद की अन्य पोस्ट

भारत से इन देशों तक आप कर सकते हैं रोड ट्रिप

हम आपके लिए उन विदेशी देशों की सूची लेकर आए हैं जहां भारतीय सड़क मार्ग से यात्रा कर सकते हैं।

भूटान घूमना चाहते हैं तो जुलाई से पहले कर लें प्लानिंग नहीं तो पड़ेगा महंगा

अगर आप भी भूटान घूमना चाहते हैं, तो जुलाई से पहले की प्लानिंग कर लें क्योंकि अब भारतीयों को जुलाई से सतत विकास शुल्क के तौर पर 1200 रुपए देना पड़ेगा।

लेटेस्ट पोस्ट

इतिहास का खजाना है यह छोटा सा शहर

यहां समय-समय पर हिंदू, बौद्ध, जैन और मुस्लिम, चार प्रमुख धर्मों का प्रभाव रहा है।

लक्षद्वीप : मूंगे की चट्टानों और खूबसूरत लगूंस का ठिकाना

यहां 36 द्वीप हैं और सभी बेहद सुंदर हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ 10 द्वीप ही ऐसे हैं जहां आबादी है।

नए साल का जश्न मनाने के लिए ऑफबीट डेस्टिनेशन्स

वन्यजीवन के बेहतरीन अनुभवों से लेकर संस्कृति, विरासत और प्रकृति तक, इन जगहों में सब कुछ है।

विश्व पर्यटन दिवस विशेष : आस्था, श्रद्धा और विश्वास का उत्तर...

मैं इतिहास का उत्तर हूं और वर्तमान का उत्तर हूं…। मैं उत्तर प्रदेश हूं।

पॉपुलर पोस्ट

घूमने के बारे में सोचिए, जी भरकर ख्वाब बुनिए...

कई सारी रिसर्च भी ये दावा करती हैं कि घूमने की प्लानिंग आपके दिमाग के लिए हैपिनेस बूस्टर का काम करती है।

एक चाय की चुस्की.....एक कहकहा

आप खुद को टी लवर मानते हैं तो जरूरी है कि इन सभी अलग-अलग किस्म की चायों के स्वाद का मजा जरूर लें।

घर बैठे ट्रैवल करो और देखो अपना देश

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश नाम से शुरू की ऑनलाइन सीरीज। देश के विभिन्न राज्यों के बारे में अब घर बैठे जान सकेंगे।

लॉकडाउन में हो रहे हैं बोर तो करें ऑनलाइन इन म्यूजियम्स की सैर

कोरोना महामारी के बाद घूमने फिरने की आजादी छिन गई है लेकिन आप चाहें तो घर पर बैठकर भी इन म्यूजियम्स की सैर कर सकते हैं।