देखने लायक है तीरथगढ़ झरने की खूबसूरती, जल्दी बना लीजिए प्लान

अनुषा मिश्रा 15-06-2023 05:28 PM My India
तीरथगढ़ झरना छत्तीसगढ़ में बस्तर जिले के सबसे खूबसूरत रत्नों में से एक है। जगदलपुर के जिला मुख्यालय से लगभग 35 किमी दूर स्थित यह झरना भारत के सबसे शानदार झरनों में शामिल है। लगभग 300 फीट की ऊंचाई वाला तीरथगढ़ झरना कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान में है। 
इस झरने से गिरता हुआ पानी सफेद रंग का दिखता है इसलिए इसे 'द मिल्की फॉल्स' के नाम से भी जाना जाता है। तीरथगढ़ झरना नीचे गिरता है तो तल पर एक पूल बनाता है। इस पूल में तैराकी, पैडल बोटिंग करते हुए और नहाते हुए लोग आपको दिख जाएंगे। यह मॉनसून में सबसे सुंदर लगता है क्योंकि इस समय पानी काफी तेजी से नीचे गिरता है। तीरथगढ़ साल के बाकी दिनों में भी शांत और सुंदर रहता है। पूल के किनारे भगवान शिव का एक छोटा सा मंदिर है जहां स्थानीय लोग प्रार्थना करते हैं। 

हर मौसम में खूबसूरत

grasshopper yatra Image

यहां एक कुंड है जहां तक पहुंचने के लिए लगभग 400 सीढियां हैं जो फिसलन से भरी हुई हैं। यह कुंड घने जंगलों से घिरा हुआ है। चाहे गर्मी हो, सर्दी हो या मानसून, स्थानीय लोग हों या पर्यटक, अगर आप जगदलपुर के पास हैं तो तीरथगढ़ एक आदर्श पिकनिक स्थल है। तीरथगढ़ झरना कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान का एक हिस्सा है, इसलिए आस-पास पक्षी देखने, पर्वतारोहण और पिकनिक जैसी एक्टिविटीज की जाती हैं। इसीलिए यहां पूरे देश से टूरिस्ट्स आते रहते हैं। सर्दियों के शुरुआती मौसम में पानी का बहाव बढ़ जाता है जिससे झरने चौड़े हो जाते हैं, इसलिए इस दौरान कई पर्यटक झरने देखने आते हैं। 

आस-पास घूमने की जगहें 

तीरथगढ़ झरना कई अन्य मशहूर टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स के करीब है। इनमें प्रसिद्ध कुटुमसर गुफाएं, कैलाश गुफाएं और कांगेर धारा झरना शामिल हैं। ये जगहें झरने के बहुत करीब हैं और एक दूसरे से पैदल दूरी पर स्थित हैं। साथ ही, ये जगह कांगेर राष्ट्रीय उद्यान में हैं इसलिए पर्यटक राष्ट्रीय उद्यान में घूमते हुए इन्हें देखने आते हैं। 

तीरथगढ़ झरना घूमने का सबसे अच्छा समय

grasshopper yatra Image

तीरथगढ़ झरना जंगलों से घिरा हुआ है, इसलिए तापमान बहुत अधिक नहीं है। यहां घूमने का सबसे अच्छा वक़्त शुरुआती सर्दियों के मौसम के दौरान होता है। इस समय के दौरान तापमान ठंडा और सुखद होता है। तापमान 18 से 28 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। गर्मियों में पानी का बहाव कम हो जाता है। मॉनसून के दौरान, पानी का स्तर काफी बढ़ जाता है और भारी बारिश की वजह से यहां जाना काफी मुश्किल भरा हो जाता है।

यात्रियों के लिए टिप्स 

झरने के पास कोई रेस्तरां नहीं है। स्थानीय लोग आमतौर पर आसपास के क्षेत्रों में स्टॉल लगाते हैं, जो बिसकिट्स और कुछ स्नैक्स बेचते हैं। अगर आप कोई पैकेज्ड चीज़ खरीदते हैं तो उसकी एक्सपायरी डेट ज़रूर जांच लें। हालांकि, बेहतर रहेगा कि आप अपने साथ खाने का सामान लेकर जाएं या या जगदलपुर लौट कर वहीं खाना खाएं।

कैसे पहुंचें? 

तीरथगढ़ झरना कांगेर राष्ट्रीय उद्यान में है। यह जगदलपुर के दक्षिण-पश्चिम की ओर और शहर से 35 किमी की दूरी पर है। तीरथगढ़ झरने तक दरभा से पहुंचा जा सकता है, यानी जगदलपुर और सुकमा को जोड़ने वाले स्टेट हाइवे के पास से। आप दरभा जंक्शन से तीरथगढ़ झरना और आसपास की बाकी जगहों (जिसमें कैलाश और कोटमसर गुफा शामिल हैं) की ओर जीप ले सकते हैं। तीरथगढ़ झरना अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण एक बेहतरीन जगह है। 

आपके पसंद की अन्य पोस्ट

इस सर्दी करें बर्फ पर सैर

हम लाए हैं आपके लिए कुछ खास विंटर डेस्टिनेशंस जहां जाकर आप स्नो फॉल का मजा उठा सकें, बेफ्रिक होकर बर्फ में खेल सकें और भूल जाएं कुछ पल के लिए सारी टेंशन। तो फिर देर किस बात की? फटाफट पैक कर लीजिए गर्म कपड़े और निकल पड़िए हमारे साथ स्नो फॉल की खूबसूरती को महसूस करने।

इश्क़ = मॉनसून, घुमक्कड़ी और भोपाल

भोपाल में ऐसा बहुत कुछ है जो बारिश के मौसम में घूमने के लिए बेस्ट है।

लेटेस्ट पोस्ट

इतिहास का खजाना है यह छोटा सा शहर

यहां समय-समय पर हिंदू, बौद्ध, जैन और मुस्लिम, चार प्रमुख धर्मों का प्रभाव रहा है।

लक्षद्वीप : मूंगे की चट्टानों और खूबसूरत लगूंस का ठिकाना

यहां 36 द्वीप हैं और सभी बेहद सुंदर हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ 10 द्वीप ही ऐसे हैं जहां आबादी है।

नए साल का जश्न मनाने के लिए ऑफबीट डेस्टिनेशन्स

वन्यजीवन के बेहतरीन अनुभवों से लेकर संस्कृति, विरासत और प्रकृति तक, इन जगहों में सब कुछ है।

विश्व पर्यटन दिवस विशेष : आस्था, श्रद्धा और विश्वास का उत्तर...

मैं इतिहास का उत्तर हूं और वर्तमान का उत्तर हूं…। मैं उत्तर प्रदेश हूं।

पॉपुलर पोस्ट

घूमने के बारे में सोचिए, जी भरकर ख्वाब बुनिए...

कई सारी रिसर्च भी ये दावा करती हैं कि घूमने की प्लानिंग आपके दिमाग के लिए हैपिनेस बूस्टर का काम करती है।

एक चाय की चुस्की.....एक कहकहा

आप खुद को टी लवर मानते हैं तो जरूरी है कि इन सभी अलग-अलग किस्म की चायों के स्वाद का मजा जरूर लें।

घर बैठे ट्रैवल करो और देखो अपना देश

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश नाम से शुरू की ऑनलाइन सीरीज। देश के विभिन्न राज्यों के बारे में अब घर बैठे जान सकेंगे।

लॉकडाउन में हो रहे हैं बोर तो करें ऑनलाइन इन म्यूजियम्स की सैर

कोरोना महामारी के बाद घूमने फिरने की आजादी छिन गई है लेकिन आप चाहें तो घर पर बैठकर भी इन म्यूजियम्स की सैर कर सकते हैं।