ड्रामेबाज़ बच्चों के लिए दिल्ली में होने जा रहा अनोखा फेस्ट

टीम ग्रासहॉपर 05-06-2023 04:40 PM News
15 जून से, दिल्ली और पूरे भारत के बच्चों को राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (NSD) के कुछ बेहतरीन प्रोफेशनल्स से एक्टिंग और थिएटर सीखने का मौका मिल सकता है।  दिल्ली में ये 10 दिनों (15 से 25 जून तक) तक चलने वाला फेस्टिवल राजघाट के पास गांधी स्मृति और दर्शन में होगा। यह फेस्ट राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के सहयोग से दिल्ली पर्यटन विभाग की एक पहल है। दिल्ली पर्यटन विभाग ने इसे बच्चों की गर्मी की छुट्टियों के हिसाब से ऑर्गनाइज किया है।

होनहार बच्चों को मिलेगा मौका

हमारे देश में होनहार बच्चों की कमी नहीं है। अभिनय व कला में तो यहां के बच्चे माहिर हैं। ऐसे ही बच्चों को कुछ रचनात्मक सीखने का मौका देने के लिए इस फेस्ट को आयोजित किया जा रहा है। और जब अपने एरिया के बज़ट प्रोफेशनल से सीखने का मौका मिल रहा हो तब इससे बेहतर और क्या हो सकता है।

यह फेस्टिवल 8 से 16 साल के बच्चों के लिए होगा। प्रोफेशनल्स से सीखने के अलावा, बच्चे इन कार्यशालाओं में नि:शुल्क हिस्सा ले सकते हैं! रिपोर्ट्स की मानें तो इस फेस्टिवल में विन-विन सिनेरियो है। सबसे पहले, बच्चे नए कौशल सीखेंगे। दूसरे, इस महोत्सव से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

grasshopper yatra Image

हालांकि, थिएटर वर्कशॉप के लिए 250 बच्चों का रजिस्ट्रेशन करेंगे। इन रजिस्ट्रेशन में से 150 का ही चयन थिएटर वर्कशॉप के लिए होने जा रहा है. तो जल्दी करो और रजिस्ट्रेशन कर लो! 10 दिनों तक चलने वाले इस फेस्ट में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय द्वारा आयोजित छह बच्चों के नाटक भी होंगे, जो उत्सव के एक हिस्से के रूप में होंगे। 

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (NSD) 1959 में स्थापित एक शैक्षणिक संस्थान है। यह विद्यालय रंगमंच के अध्ययन पर केंद्रित है। यह छात्रों को अभिनय, मंच कला में भी प्रशिक्षित करता है।

आपके पसंद की अन्य पोस्ट

दिल्ली एयरपोर्ट के सभी बोर्डिंग और एंट्री गेट पर मिलेगी डिजीयात्रा की सुविधा

1 दिसंबर, 2022 को लॉन्च होने के बाद से दिल्ली ने डिजीयात्रा के उपयोगकर्ताओं में धीरे-धीरे वृद्धि देखी है।

भूटान घूमना चाहते हैं तो जुलाई से पहले कर लें प्लानिंग नहीं तो पड़ेगा महंगा

अगर आप भी भूटान घूमना चाहते हैं, तो जुलाई से पहले की प्लानिंग कर लें क्योंकि अब भारतीयों को जुलाई से सतत विकास शुल्क के तौर पर 1200 रुपए देना पड़ेगा।

लेटेस्ट पोस्ट

इतिहास का खजाना है यह छोटा सा शहर

यहां समय-समय पर हिंदू, बौद्ध, जैन और मुस्लिम, चार प्रमुख धर्मों का प्रभाव रहा है।

लक्षद्वीप : मूंगे की चट्टानों और खूबसूरत लगूंस का ठिकाना

यहां 36 द्वीप हैं और सभी बेहद सुंदर हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ 10 द्वीप ही ऐसे हैं जहां आबादी है।

नए साल का जश्न मनाने के लिए ऑफबीट डेस्टिनेशन्स

वन्यजीवन के बेहतरीन अनुभवों से लेकर संस्कृति, विरासत और प्रकृति तक, इन जगहों में सब कुछ है।

विश्व पर्यटन दिवस विशेष : आस्था, श्रद्धा और विश्वास का उत्तर...

मैं इतिहास का उत्तर हूं और वर्तमान का उत्तर हूं…। मैं उत्तर प्रदेश हूं।

पॉपुलर पोस्ट

घूमने के बारे में सोचिए, जी भरकर ख्वाब बुनिए...

कई सारी रिसर्च भी ये दावा करती हैं कि घूमने की प्लानिंग आपके दिमाग के लिए हैपिनेस बूस्टर का काम करती है।

एक चाय की चुस्की.....एक कहकहा

आप खुद को टी लवर मानते हैं तो जरूरी है कि इन सभी अलग-अलग किस्म की चायों के स्वाद का मजा जरूर लें।

घर बैठे ट्रैवल करो और देखो अपना देश

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश नाम से शुरू की ऑनलाइन सीरीज। देश के विभिन्न राज्यों के बारे में अब घर बैठे जान सकेंगे।

लॉकडाउन में हो रहे हैं बोर तो करें ऑनलाइन इन म्यूजियम्स की सैर

कोरोना महामारी के बाद घूमने फिरने की आजादी छिन गई है लेकिन आप चाहें तो घर पर बैठकर भी इन म्यूजियम्स की सैर कर सकते हैं।