एक छोटे से रेगिस्तान का सफर

अनुषा मिश्रा 15-06-2021 07:24 PM Soul Journey
नदियां, पहाड़, समंदर सब घूम चुके थे हम, अब मन था किसी रेगिस्तान के सफर का। रेत के टीलों के पीछे से उगते और डूबते सूरज को निहारने का। दिसम्बर, जनवरी में कोरोना का प्रकोप भी काफी हद तक कम हो चुका था तो सोचा कि क्यों न इस बार जैसलमेर के सफर पर निकला जाए, लेकिन जो आप सोचते हैं, वह पूरा हो जाए तो जिंदगी जन्नत ही न बन जाए? बहुत सारी प्लानिंग्स के बाद भी हमारा जैसलमेर जाने का ख्वाब पूरा न हो पाया। मन बड़ा ही दुखी था। इसलिए भी कि अब एक साल और इंतजार करना पड़ेगा दोबारा इस ख्वाहिश को मुकम्मल करने की जद्दोजहद के लिए, क्योंकि जनवरी के बाद जैसलमेर की गर्मी तो हम सह नहीं पाते। 

ख़ैर, इन सर्दियों को ऐसे तो नहीं जाने देना था तो सोचा कि क्यों न छोटे से रेगिस्तान का ही सफर कर लिया जाए। अब हमने तय किया कि हम अजमेर और पुष्कर तो घूम कर आएंगे ही। जयपुर से इस यात्रा को शुरू होना था। फरवरी महीने के एक शनिवार को सुबह हमने बैग पैक किए और निकल पड़े अजमेर के लिए। जयपुर से अजमेर का रास्ता शानदार है। वहां तक पहुंचने में हमें 2 घंटे का ही समय लगा, लेकिन पहुंचते-पहुंचते भूख लग गई थी तो सोचा कि पहले कुछ खा लिया जाए और फिर दरगाह में दर्शन किए जाएं। अजमेर शहर वैसे तो खूबसूरत है, पहाड़ियां हैं, झील है, लेकिन भीड़ बहुत है। पेट पूजा करने के बाद हमने दरगाह की ओर रुख किया।

आपके पसंद की अन्य पोस्ट

श्राद्ध पक्ष में इन जगहों का है विशेष महत्व, पिंडदान के लिए जाते हैं लोग

देश में ऐसी कई जगहें हैं जो पूर्वजों जहां जाकर लोग अपने पूर्वजों का पिंडदान करते

पुष्कर: उत्सवों को उत्साह से मनाती भगवान ब्रह्मा की ये नगरी

अरावली की पहाड़ियों से तीन ओर से घिरे राजस्थान के ह्रदय पुष्कर में एक अलग ही रंग का हिंदुस्तान बसता है। एक ऐसा हिंदुस्तान जिसे सैलानी सिर्फ देखने नहीं बल्कि उसे महसूस करने, जीने और इसकी आध्यात्मिकता में डूब जाने के लिए आते हैं।

लेटेस्ट पोस्ट

श्राद्ध पक्ष में इन जगहों का है विशेष महत्व, पिंडदान के लिए जाते हैं लोग

देश में ऐसी कई जगहें हैं जो पूर्वजों जहां जाकर लोग अपने पूर्वजों का पिंडदान करते

कम समय और कम पैसों में घूमिए दिल्ली के पास की ये जगहें

हम आपके लिए ले आए हैं कुछ ऐसी जगहों की लिस्ट जहां आप बहुत कम खर्च में और कम समय में घूम सकते हैं।

भारतीय पेपर मनी का दिलचस्प इतिहास बताता है यह म्यूजिमय, यहां है कमाल का कलेक्शन

50 वर्षों की मेहनत से उन्होंने ये कलेक्शन बनाया है, जिसमें उनकी मेहनत और लगन साफ दिखती है।

यूं ही नहीं ये जगह जन्नत कहलाती है

वादियों में टूरिज्म इंडस्ट्री पटरी पर लौट रही है और आपको बुला रही है।

पॉपुलर पोस्ट

घूमने के बारे में सोचिए, जी भरकर ख्वाब बुनिए...

कई सारी रिसर्च भी ये दावा करती हैं कि घूमने की प्लानिंग आपके दिमाग के लिए हैपिनेस बूस्टर का काम करती है।

एक चाय की चुस्की.....एक कहकहा

आप खुद को टी लवर मानते हैं तो जरूरी है कि इन सभी अलग-अलग किस्म की चायों के स्वाद का मजा जरूर लें।

लॉकडाउन में हो रहे हैं बोर तो करें ऑनलाइन इन म्यूजियम्स की सैर

कोरोना महामारी के बाद घूमने फिरने की आजादी छिन गई है लेकिन आप चाहें तो घर पर बैठकर भी इन म्यूजियम्स की सैर कर सकते हैं।

घर बैठे ट्रैवल करो और देखो अपना देश

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश नाम से शुरू की ऑनलाइन सीरीज। देश के विभिन्न राज्यों के बारे में अब घर बैठे जान सकेंगे।