सतपुड़ा नेशनल पार्क में लें पैदल सफारी का मज़ा

टीम ग्रासहॉपर 09-02-2023 02:12 PM Eco Tourism
सतपुड़ा नेशनल पार्क में लें पैदल सफारी का मज़ा
जब आप पेड़ों, घास, पक्षियों, झाड़ियों और बाकी प्राकृतिक चीजों से घिरे होते हैं तो एक अलग तरह का मानसिक सुकून मिलता है। कुदरत न केवल हमारे शरीर को बल्कि मन को भी ठीक करती है। इस तरह की शांति आज के समय में मुश्किल है, लेकिन पूरी तरह से असंभव भी नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हम भाग्यशाली हैं कि सतपुड़ा नेशनल पार्क जैसी प्राकृतिक जगहें हैं जहां आप वास्तव में प्रकृति के करीब रह सकते हैं। 

कहां है सतपुड़ा नेशनल पार्क

सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान, मध्य प्रदेश में नर्मदापुरम जिले में है जो सतपुड़ा रेंज का एक हिस्सा है। सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान बोरी और पचमढ़ी वन्यजीव अभयारण्य एक बड़ा और अनूठा संरक्षित क्षेत्र है जहां आप कमाल की कुदरती खूबसूरती का लुत्फ उठा सकते हैं। 


सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान में क्या है खास? 

grasshopper yatra Image

क्या आप जानते हैं कि सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान भारत का एकमात्र राष्ट्रीय उद्यान है जहां कोई भी पैदल सफारी का अनुभव कर सकता है? हां, आपने सही पढ़ा। पूरे भारत जितने भी राष्ट्रीय उद्यान हैं वे सभी सफारी वाहनों से उतरने पर रोक लगाते हैं लेकिन सतपुड़ा नेशनल पार्क में ऐसा नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि यहां बाघ कड़ी कम हैं। यह आपको राष्ट्रीय उद्यान के मुख्य क्षेत्र में पैदल सफारी का अनूठा अनुभव जीने का मौका देता है।


सतपुड़ा नेशनल पार्क के कोर जोन में टहलने का मतलब है एक अनुभवी प्रकृतिवादी के साथ घने साल और सागौन के जंगल, घास के मैदान और देनवा नदी के बैकवाटर से गुजरना। सतपुड़ा में बाघ को देखने का मौका दुर्लभ है, लेकिन आप इस बात से खुश होंगे कि एक बार जब आप जंगल में टहलते हैं और ऊंचे पेड़ों, पक्षियों और बाकी जंगल की चीज़ों से घिरे होते हैं। हालांकि यहां बाघ न दिखना आपको थोड़ा निराश कर सकता है लेकिन पैदल टहलने का मज़ा आपकी उस निराशा को दूर कर देता है।


सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान में वन्यजीव जैव विविधता पार्क

स्तनधारियों की कुल 52 प्रजातियों, पक्षियों की 300 से अधिक प्रजातियों और सरीसृपों और उभयचरों की 31 प्रजातियों का घर है। हालांकि तेंदुए, स्लोथ और जंगली कुत्ते यहां खूब हैं लेकिन वॉकिंग सफारी करना पूरी तरह सुरक्षित है।

आपके पसंद की अन्य पोस्ट

वाइल्ड लाइफ के शौकीनों के लिए महाराष्ट्र है बेस्ट

प्लानिंग इस बार महाराष्ट्र के टाइगर रिजर्व्स को एक्सप्लोर करने की और एडवेंचर के साथ खूबसूरती को निहारने की।

अगर आपको है वाइल्ड लाइफ से प्यार तो आइए श्री लंका

यहां मैमल्स की 120 से ज्यादा, रेप्टाइल्स की 171, एम्फीबीयंस की 106 और चिड़ियों की 227 प्रजातियां पाई जाती हैं।

लेटेस्ट पोस्ट

इतिहास का खजाना है यह छोटा सा शहर

यहां समय-समय पर हिंदू, बौद्ध, जैन और मुस्लिम, चार प्रमुख धर्मों का प्रभाव रहा है।

लक्षद्वीप : मूंगे की चट्टानों और खूबसूरत लगूंस का ठिकाना

यहां 36 द्वीप हैं और सभी बेहद सुंदर हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ 10 द्वीप ही ऐसे हैं जहां आबादी है।

नए साल का जश्न मनाने के लिए ऑफबीट डेस्टिनेशन्स

वन्यजीवन के बेहतरीन अनुभवों से लेकर संस्कृति, विरासत और प्रकृति तक, इन जगहों में सब कुछ है।

विश्व पर्यटन दिवस विशेष : आस्था, श्रद्धा और विश्वास का उत्तर...

मैं इतिहास का उत्तर हूं और वर्तमान का उत्तर हूं…। मैं उत्तर प्रदेश हूं।

पॉपुलर पोस्ट

घूमने के बारे में सोचिए, जी भरकर ख्वाब बुनिए...

कई सारी रिसर्च भी ये दावा करती हैं कि घूमने की प्लानिंग आपके दिमाग के लिए हैपिनेस बूस्टर का काम करती है।

एक चाय की चुस्की.....एक कहकहा

आप खुद को टी लवर मानते हैं तो जरूरी है कि इन सभी अलग-अलग किस्म की चायों के स्वाद का मजा जरूर लें।

घर बैठे ट्रैवल करो और देखो अपना देश

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश नाम से शुरू की ऑनलाइन सीरीज। देश के विभिन्न राज्यों के बारे में अब घर बैठे जान सकेंगे।

लॉकडाउन में हो रहे हैं बोर तो करें ऑनलाइन इन म्यूजियम्स की सैर

कोरोना महामारी के बाद घूमने फिरने की आजादी छिन गई है लेकिन आप चाहें तो घर पर बैठकर भी इन म्यूजियम्स की सैर कर सकते हैं।