World Tourism Day 2022 : पर्यटन की दुनिया के कुछ नए ट्रेंड्स

अनुषा मिश्रा 27-09-2022 12:26 PM Tips
27 सितम्बर 2022, आज है विश्व पर्यटन दिवस। हर बार की तरह इस बार भी संयुक्त राज्य ने इस दिन के लिए एक थीम तय की है और एक देश को होस्ट बनाया है। तो इस बार की थीम है 'Rethinking Tourism' यानी 'पर्यटन पर पुनर्विचार' और इस बार टूरिज्म डे को होस्ट कर रहा है बाली, इंडोनेशिया। 

पर्यटन पर पुनर्विचार क्या है?
इस वर्ष की थीम पर्यटन के भविष्य पर केंद्रित है। कोविड-19 महामारी के कारण पर्यटन को एक बड़ा झटका लगा था लेकिन अब ये क्षेत्र इससे उबर कर पहले जैसा होने की राह पर है। यह समय है कि हम इस बारे में दोबारा सोचें कि हम पर्यटन कैसे करते हैं। इसीलिए इस बार संयुक्त राज्य ने टूरिज्म डे की थीम 'पर्यटन पर पुनर्विचार' रखी है।

नए ट्रेंड
इस वर्ल्ड टूरिज्म डे पर हम आपको बता रहे हैं टूरिज्म की दुनिया के कुछ नए ट्रेंड्स के बारे में जिन्होंने पिछले कुछ समय में काफी रफ्तार पकड़ी है।  

होम स्टे

grasshopper yatra Image

कोरोना के बाद से रुकने के लिए होम स्टे नया ट्रेंड बनकर उभरे हैं। होम स्टे में रुकने से एक तो लोकल और छोटे व्यवसाय वाले लोगों को फायदा मिलता है। आपको घर जैसा माहौल घर से दूर भी मिलता है। साथ ही घूमने के दौरान आपको लोकल लोगों को समझने का एक आसान ज़रिया भी मिलता है। 


लोकल टूर कंपनीज

अगर आप घूमने के लिए कोई पैकेज बुक करा हैं तो किसी बड़ी कंपनी का सहारा लेने के बजाय लोकल टूर कम्पनी का पैकेज बुक कराना बेहतर है। इससे एक तो आपके पैसों की बचत होगी दूसरा आपको एक नया एक्सपीरियंस भी मिलेगा।


डोमेस्टिक ट्रैवेल

कोविड के दौरान ज़्यादातर देशों ने अपनी अन्तर्राष्ट्रीय सीमाएं बंद कर दीं। इसलिए उस दौरान लोगों ने घूमने के लिए अपने देश के टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स को ही चुना। ये एक ट्रेंड बन गया। अब भी लोग दूसरे देशों में जाने के बजाय अपने देश की खूबसूरती को एक्सप्लोर करना ज़्यादा पसंद कर रहे हैं।


लम्बे वेकेशन

पहले लोग सिर्फ तभी घूमने जाते थे जब उन्हें 2-4 दिन की छुट्टी मिलती थी। ये ट्रिप भी छोटे होते थे लेकिन अब जब ज़्यादातर कंपनीज ने वर्क फ्रॉम होम को अडॉप्ट कर लिया है तो लोग लंबे समय तक किसी टूरिस्ट डेस्टिनेशन पर रुक कर वहीं से ऑफिस का काम और घूमना एक साथ एन्जॉय कर रहे हैं। 


लोकल कम्युनिटीज को सपोर्ट

जब डोमेस्टिक ट्रैवेल को बढ़ावा मिला है तो इससे लोकल लोगों को भी काफी फायदा मिल रहा है। लोग लंबे समय तक रुकने के लिए ऑफबीट जगहों पर जा रहे हैं। इससे वहां के लोगों को भी रोजगार और मदद मिल रही थी जहां पहले लोग काफी कम जाते थे। 


सस्टेनेबल ट्रैवेल

grasshopper yatra Image

जब कोविड में लॉकडाउन के दौरान प्रदूषण काफी कम हुआ और टूरिस्ट प्लेसेस साफ सुथरे रहने लगे तब लोगों को यह भी समझ में आया कि हमारी धरती को हमें ही बचाना। हालांकि, सब तो नहीं लेकिन अब कई टूरिस्ट ऐसे हैं जो सस्टेनेबल टूरिज्म को सपोर्ट कर रहे हैं। 


नए अनुभवों की तलाश

हाल ही में एक नया ट्रेंड जो शुरू हुआ है वो है घूमने के दौरान सिर्फ मस्ती करने के बजाय नए अनुभवों को सहेजना। अब लोग जहां घूमने जाते हैं वहां के कल्चर, ट्रेडिशन्स को भी समझने की कोशिश करते हैं।


सोलो ट्रैवेल

सोलो ट्रैवेल वैसे तो नया ट्रेंड नहीं है लेकिन अब लोग पहले से ज़्यादा अकेले घूमना पसंद कर रहे हैं। जिन लोगों को वर्क फ्रॉम होम मिला है वे किसी साथी की छुट्टियों का इंतज़ार करने के बजाय अपना समय एन्जॉय करना बेहतर समझ रहे हैं। 

आपके पसंद की अन्य पोस्ट

ट्रेकिंग करते समय ध्यान रखें ये बातें

ट्रेकिंग करते समय कुछ बातों को ध्यान में रखना बहुत ज़रूरी है, चाहे आप अनुभवी हों, शुरुआती हों या अकेले ट्रेकर हों।

‘पर्यटन एवं रोजगार: सभी के लिए बेहतर भविष्‍य की संभावनाएं’

आपके एडवेंचर और एक्साइटमेंट में उन लोगों के भी आगे बढ़ने के मौके शामिल हैं, जिनके लिए पर्यटन आय का साधन है या फिर आय का साधन हो सकता है।

लेटेस्ट पोस्ट

अयोध्या को खूबसूरत बनाने वाली 10 शानदार जगहें

आप बिना ज़्यादा सोच-विचार किए झट से वहां जाने की तैयारी कर लें।

इतिहास का खजाना है यह छोटा सा शहर

यहां समय-समय पर हिंदू, बौद्ध, जैन और मुस्लिम, चार प्रमुख धर्मों का प्रभाव रहा है।

लक्षद्वीप : मूंगे की चट्टानों और खूबसूरत लगूंस का ठिकाना

यहां 36 द्वीप हैं और सभी बेहद सुंदर हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ 10 द्वीप ही ऐसे हैं जहां आबादी है।

नए साल का जश्न मनाने के लिए ऑफबीट डेस्टिनेशन्स

वन्यजीवन के बेहतरीन अनुभवों से लेकर संस्कृति, विरासत और प्रकृति तक, इन जगहों में सब कुछ है।

पॉपुलर पोस्ट

घूमने के बारे में सोचिए, जी भरकर ख्वाब बुनिए...

कई सारी रिसर्च भी ये दावा करती हैं कि घूमने की प्लानिंग आपके दिमाग के लिए हैपिनेस बूस्टर का काम करती है।

एक चाय की चुस्की.....एक कहकहा

आप खुद को टी लवर मानते हैं तो जरूरी है कि इन सभी अलग-अलग किस्म की चायों के स्वाद का मजा जरूर लें।

घर बैठे ट्रैवल करो और देखो अपना देश

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश नाम से शुरू की ऑनलाइन सीरीज। देश के विभिन्न राज्यों के बारे में अब घर बैठे जान सकेंगे।

जोगेश्वरी गुफा: मंदिर से जुड़ी आस्था

यहां छोटी-बड़ी मिलाकर तमाम गुफाएं हैं जिनमें अजंता-एलोरा की गुफाएं तो पूरे विश्व में अपनी शानदार वास्तुकला के चलते प्रसिद्ध हैं।