कोरोना के बाद ट्रैवल इंडस्ट्री में होंगे ये बदलाव

टीम ग्रासहॉपर 25-04-2020 04:30 PM News
कोरोना काल के बाद क्या हम ट्रैवल (Travel) कर सकेंगे? अगर हां, तो कब, कैसे और किन जगहों पर। सवाल बड़े हैं और जटिल भी। कोरोना महामारी (Corona Pandemic) बढ़ने के साथ ही टूरिस्ट (Tourist) और ट्रैवल इंडस्ट्री (Travel industry) के सामने ऐसे कई सवाल मुंह बाए खड़े हैं। इसका जवाब यूं तो भविष्य के गर्भ में है लेकिन अभी से अनुमान जरूर लगाया जा सकता है। कोरोना काल गुजरने के बाद ट्रैवल इंडस्ट्री में ट्रैवलर्स के स्वास्थ्य से लेकर परिवहन व अन्य चीजों में बदलाव आना मुमकिन है। तो आइये जानते हैं कि कोरोना महामारी ट्रैवल इंडस्ट्री में किस तरह के बदलाव लाएगी।

भारत में टूरिज्म की अपार संभानाए

कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के दौरान बड़ी संख्या में टूरिस्ट (Tourist) जहां थे, वहीं फंस गए। ऐसे में भविष्य में हर कोई ऐसी जगह ट्रैवल करना पसंद करेगा, जहां से वह आसानी से घर वापसी कर सके। हर देश अपने-अपने तरीकों से इस महामारी से निपटने की कोशिश कर रहा है। इन सबके बावजूद यूरोप (Europe) इससे सबसे ज्यादा प्रभावित है।

अगर भारत की बात करें तो देश के कई टूरिस्ट स्पास्ट्स (Tourist Spots) ऐसे हैं, जो न सिर्फ लोगों की पसंद हैं बल्कि वहां पर कोरोना का प्रभाव या तो खत्म हो गया है या फिर उसे रोक पाने में राज्य सरकारें (State Government) काफी हद तक सफल रही हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है गोवा (Goa), जहां 7 कोरोना पॉजिटिव पेशंट्स इस महामारी के खिलाफ जंग जीत चुके हैं और गोवा पूरी तरह से कोरोना (Corona Free) मुक्त  हो चुका है। 

इसके अलावा लद्दाख (Laddakh) समेत हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh), पुदुच्चेरी (Puducherry) और पूर्वी भारत (North East) में कम केस हैं, मुमकिन है यहां पर सरकारें कोरोना पर काबू पा लेंगी। इन सबसे इतर सिक्किम (Sikkim) तो ऐसी टूरिस्ट डेस्टिनेशन है, जहां पर एक भी कोरोना का केस नहीं पाया गया है। टूर ऑपरेटर्स (Tour Oprators) का मानना है कि डोमेस्टिक टूरिज्म (Domestic Tourism) शुरू होने से विदेशी सैलानियों (Foreign Tourist) का डर खत्म होगा।

साफ-सफाई का बढ़ेगा महत्व

इस बात में कोई संदेह नहीं है कि कोरोना (Corona) समाप्त होने के बाद टूरिस्ट की हैबिट्स (Tourist Habits) में बहुत बदलाव आने वाला है। विशेषकर उनके होटल्स (Hotels) चुनाव के तरीके में। एक्सपर्ट्स का मानना है कि अब उन होटल्स या रेजॉर्ट्स (Resorts) को प्राथमिकता मिलेगी जो साफ-सफाई और हाईजिन को मानकों पर खरे उतरते हों। न सिर्फ होटल प्रॉपर्टी बल्कि अपने कर्मचारियों की हाईजिन (Hygiene) का भी ध्यान रखना होगा। 

इतना ही नहीं न्यूनतम टचपॉइंट्स (Touch points) वाले होटल्स भी ट्रैवलर्स (Travelers) की प्राथमिकता में होंगे। इसके अलावा चेक इन व चेक आउट में लंबी कतारें खत्म हो सकती हैं साथ ही की-कार्ड सिस्टम और भीड़भाड़ वाला ब्रेकफास्ट बफे भी गुजरे जमाने की बात हो सकती है। साथ ही वीकेंड्स में भीड़भाड़ वाली जगहों के के बजाय प्राकृतिक जगहों और रहने के लिए प्राइवेट घर (Private House), बंग्ले (Bungalow) और विला (Villa) की डिमांड भी बढ़ सकती है लेकिन बेहतर रिव्यू के बाद ही।

सैनिटाइजेशन होगी नई सिक्योरिटी

आप किसी खास रेस्त्रां या होटल में अगर इसलिए जाते हैं कि वहां चहल-पहल होती है तो मुमकिन है कि अगली बार नजारा बदल सकता है। हो सकता है, जहां बैठकर आप अपनी पसंदीदा डिश एंजॉय करते हैं, वहां का नजारा ही बदल गया हो। रेस्त्रां में लगी टेबल पहले की तुलना में आधी रह गई हों। ताकि सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का ख्याल रखा जा सके। साथ ही टेबल को कोई स्टाफ सैनिटाइज (Sanitize) कर रहा हो। टूरिज्म में आने वाला समय हॉस्पिटैलिटी सेक्टर (Hospitality Sector) में हेल्थ सिक्योरिटी (Health Sector) को अधिक महत्व दे सकता है।

चर्चा है कि जल्द ही गोवा (Goa) में विदेश से आने वाले टूरिस्ट (Tourist) के लिए हेल्थ सर्टिफिकेट (Health Certificate) अनिवार्य किया जा सकता है। बता दें कि ट्रैवल से जुड़ी संस्थाएं अंतराराष्ट्रीय स्तर पर टूरिस्ट्स के लिए प्री-स्कैनिक (Pre Scanning) की प्रक्रिया अनिवार्य करने पर सहमति बनाने में जुटी हुई हैं। ताकि अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट (International Flights) पर बैठने वाले सभी यात्री अपनी हेल्थ सुरक्षा को लेकर निश्चिंत रहें। एमिरेट्स (Emirates) और एतिहाद (Etihad) जैसे एयरलाइंस ने तो पैसेंजर्स और स्टाफ के ब्लड सैंपलिंग की प्रक्रिया भी अनिवार्य कर दी है।    

महंगे फ्लाइट टिकट करवा सकते हैं रोड ट्रिप की वापसी

जब तक कोरोना वायरस (Coroa Virus) पर पूरी तरह से नियंत्रण नहीं पा लिया जाता है, तब तक यात्रियों का विश्वास जीतने के लिए फ्लाइट्स भी सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का ख्याल रखते हुए बीच की सीट खाली छोड़ी जा सकती है। हालांकि, खाली सीट का भार यात्रियों को महेंगे फ्लाइट टिकट (Flight Tickets) के जरिए चुकाना पड़ सकता है।

हेल्थ सिक्योरिटी (Health Security)  को देखते हुए न सिर्फ सीट पॉकेट्स में रखी मैग्जिन हटाई जा सकती हैं बल्कि एयरक्राफ्ट को सर्जिकल ग्लव्स (Surgical Gloves) से लेकर सैनिटाइजिंग वाइप (Sanitizing Wipe) और कॉन्टेक्टलेस थर्मामीटर (Contactless thermometer) से युक्त बनाया जा सकता है। महंगे टिकट का सीधा फायदा रोड ट्रिप को बढ़ावा देने वाली कंपनियों को मिल सकता है। नीले आसमान के नीचे ‘चला जाता हूं किसी की धुन में…’ गाते हुए कार चलाने का अपना ही मजा होगा। ऐसे में लॉकडाउन (Lockdown) के बाद रेंट पर कार (Rented Car) देने वाली कंपनियां बेहतर ऑफर और डील्स के साथ मार्केट में उतरेंगी।

किफायती होगी लग्जरी

कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते कैंसल हुई फ्लाइट (Flight) और होटल बुकिंग्स (Hotel Booking) के बाद बड़ी संख्या में कस्टमर्स को रिफंड लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। मामला इतना बढ़ गया कि इसपर कोर्ट को दखल देना पड़ा। इसमें कोई संदेह नहीं है कि सर्विस सेक्टर की ओर से मिले ऐसे रेस्पॉन्स के बाद कंस्टमर्स का विश्वास डिगा है। 

लॉकडाउन (Lockdown) के बाद जिस तरह से अन्य सेक्टर समेत टूरिज्म सेक्टर (Tourism Sector) में लोग बेरोजगार हुए हैं और कमाई पर रोक लगी है उसे देखते हुए माना जा रहा है कि होटल इंडस्ट्री (Hotel Industry) अपने कस्टमर्स को कई ऑफर्स दे सकती है। इसमें बच्चों के फ्री खाने से लेकर अगली ट्रिप की बुकिंग जैसे ऑफर्स शामिल हैं। इसमें बुकिंग कभी भी कैंसल करने और पूरा रिफंड ऑप्शन (Refund Option) भी शामिल है।

आपके पसंद की अन्य पोस्ट

सफर में स्ट्रीट फूड को छोड़कर खाएं ये हेल्दी स्नैक्स

न्यूट्रिशनिस्ट लवनीत बत्रा ने आपकी यात्रा को अच्छा बनाने के लिए कुछ स्नैक्स के बारे में अपनी एक इंस्टाग्राम पोस्ट में बताया है।

सफर में स्ट्रीट फूड को छोड़कर खाएं ये हेल्दी स्नैक्स

न्यूट्रिशनिस्ट लवनीत बत्रा ने आपकी यात्रा को अच्छा बनाने के लिए कुछ स्नैक्स के बारे में अपनी एक इंस्टाग्राम पोस्ट में बताया है।

लेटेस्ट पोस्ट

इतिहास का खजाना है यह छोटा सा शहर

यहां समय-समय पर हिंदू, बौद्ध, जैन और मुस्लिम, चार प्रमुख धर्मों का प्रभाव रहा है।

लक्षद्वीप : मूंगे की चट्टानों और खूबसूरत लगूंस का ठिकाना

यहां 36 द्वीप हैं और सभी बेहद सुंदर हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ 10 द्वीप ही ऐसे हैं जहां आबादी है।

नए साल का जश्न मनाने के लिए ऑफबीट डेस्टिनेशन्स

वन्यजीवन के बेहतरीन अनुभवों से लेकर संस्कृति, विरासत और प्रकृति तक, इन जगहों में सब कुछ है।

विश्व पर्यटन दिवस विशेष : आस्था, श्रद्धा और विश्वास का उत्तर...

मैं इतिहास का उत्तर हूं और वर्तमान का उत्तर हूं…। मैं उत्तर प्रदेश हूं।

पॉपुलर पोस्ट

घूमने के बारे में सोचिए, जी भरकर ख्वाब बुनिए...

कई सारी रिसर्च भी ये दावा करती हैं कि घूमने की प्लानिंग आपके दिमाग के लिए हैपिनेस बूस्टर का काम करती है।

एक चाय की चुस्की.....एक कहकहा

आप खुद को टी लवर मानते हैं तो जरूरी है कि इन सभी अलग-अलग किस्म की चायों के स्वाद का मजा जरूर लें।

घर बैठे ट्रैवल करो और देखो अपना देश

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश नाम से शुरू की ऑनलाइन सीरीज। देश के विभिन्न राज्यों के बारे में अब घर बैठे जान सकेंगे।

लॉकडाउन में हो रहे हैं बोर तो करें ऑनलाइन इन म्यूजियम्स की सैर

कोरोना महामारी के बाद घूमने फिरने की आजादी छिन गई है लेकिन आप चाहें तो घर पर बैठकर भी इन म्यूजियम्स की सैर कर सकते हैं।